आनापान ध्यान के किशोर / किशोरियों के लिए शिविर

आप आनापान ध्यान १, २ या ३ दिन के शिविरों में सीख सकते हैं | शिविर के दौरान आप नैतिकता और करुणा के बारे में भी सीखेंगे, एक सिद्धांत के रूप में नहीं, बल्कि जीवन जीने की कला के रूप में, जो आप की और दूसरों की खुशी में सहायक है- यह अपना लक्ष्य साध्य करने के लिए एक दृष्टिकोण है | (आचार संहिता देखें |) विपश्यना ध्यान (अंतर्दृष्टि के अनुसार ज्ञान), एक तकनीक जो आप बड़े होने पर सीखेंगे, उसका पहला चरण है आनापान ध्यान | इस शिविर का कोई शुल्क नहीं है, क्योंकि यह पुराने साधक, जिन्होंने इस साधना से लाभ उठाया है, उनके दान पर चलता है |

कोई भी किशोर या किशोरी इस शिविर में शामिल हो सकता है सिर्फ़ अपने पालकों की अनुमति आवश्यक है, अगर आप अभी भी उनकी निगरानी में है | उनको आप यह वेबसाइट देखने को कहें या फिर अपने स्थायी केंद्र से संपर्क करने को कहें |

१-दिवसीय शिविर

तस्वीर: जर्मनी के छात्र



इन शिविरों का आयोजन विश्वभर में विद्यालयों, शिविर स्थलों तथा स्थानीय ध्यान केन्द्रों में किया जाता है | आयु वर्ग जगह जगह अलग हो सकता है, इसलिए आप अपने स्थानीय केन्द्रों से जानकारी लें | (शिविर तिथियाँ देखें |) आनापान शिविर ८ वर्ष से १६ वर्ष आयु के बच्चों के लिए रूपांकित किया है, पर कभी कभी १८ साल के युवक / युवती भी इसमे भाग ले सकते है |

मलेशिया के स्कूल में शिविर

मलेशिया के स्कूल में शिविर

यहाँ बच्चे ध्यान की मूल बातें सीखते हैं और शिविर में आधे आधे घंटों के ध्यान सत्रों के साथ चर्चायें, रचनात्मक गति विधियां, कथा कथन और शांतिपूर्ण खेल शामिल होते हैं | आदर्श समय सारिणी के अनुसार यह शिविर सुबह ९.३० बजे से शाम के ४ बजे तक होते हैं, परन्तु स्थानिक जरूरतों के अनुसार यह बदल भी सकता है | शिविर के दौरान सामान्यत: दोपहर का खाना और शाम का नाश्ता दिया जाता है | बाल शिविर शिक्षकों के साथ साथ स्वयंसेवक इस बात का प्रयत्न करते हैं कि हर एक बच्चा इस शिविर को ख़ुशी ख़ुशी पूरा करे |

२ या ३ दिवसीय निवासी शिविर

यह शिविर अधिकतर स्थानीय ध्यान केन्द्रों में आयोजित किये जाते हैं जो भीड़-भाड़ से दूर और शांतिमय होते हैं | लड़कों और लड़कियों को अलग-अलग समूहों में, जहां उपयुक्त है वहाँ पुरुष और महिला बाल शिविर शिक्षकों द्वारा सिखाया जाता है | ध्यान साधना एक दिवसीय शिविरों के समान ही होती है परंतु विश्राम, अभ्यास, अपने मन में गहराई तक जाने का अवसर और अभ्यास पर शिविर शिक्षकों के साथ चर्चा के लिए ज्यादा समय मिलाता है |

विपश्यना केंद्र फ्रांस से दृश्य

विपश्यना केंद्र फ्रांस से दृश्य

वापस ऊपर जायें

किशोर/किशोरियों के लिए विपश्यना शिविर

विपश्यना ध्यान, अपने मन और शरीर के संवाद को देखकर अंतर्दृष्टि से ज्ञान प्राप्त करने का एक प्राचीन तरीका है | इसे सार्वभौमिक मान्यता है और यह दुनिया भर में हर महाद्वीप, हर वर्ग, हर जाति और हर धर्म के लोगों को सिखाया जाता है |

७ दिवसीय निवासी शिविर

इस शिविर की रचना, दक्षिण एशिया में १५ से १९ वर्ष के आयु वर्ग के युवा लोगों के लिए की गयी है | वर्तमान स्थिति में यह केवल भारत, नेपाल और म्यांमार में, हिंदी और म्यांमार भाषाओं में उपलब्ध हैं, न कि अंग्रेजी या अन्य भाषाओं में | १५-१९ वर्ष के किशोर किशोरियों के लिए अलग शिविर हैं | वयस्कों के लिए १०-दिवसीय शिविरों के समान ही यहाँ तकनीक सिखाई जाती है, लेकिन शाम की बातचीत ज्यादा कर के स्थानीय किशोरों के अनुरूप है |

१० दिवसीय निवासी शिविर

वयस्क व्यक्तियों को १०-दिवसीय शिविर में शामिल होने के लिए १८ वर्ष और अधिक की आयु सीमा है | आपको आचार संहिता का पालन करने के लिए पर्याप्त रूप से परिपक्व होना चाहिए, जिसमें आर्य मौन का नियम भी शामिल है | कृपया अधिक जानकारी के लिए विपश्यना ध्यान देखें |

विपश्यना केंद्र इगतपुरी, भारत से पहाड़ोंकी तस्वीर

विपश्यना केंद्र इगतपुरी, भारत से पहाड़ोंकी तस्वीर

वापस ऊपर जायें

युवा

Translations

 English
Español
Français
한국어
Polski
Português
Pусский
čeština

More information

Please visit www.dhamma.org/hi/index